भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सुनते-सुनते लोरी / उषा यादव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चांदनी ने चांदी की
चादर बिछा दी,
पेड़-पौधे सोए, हुई
रात की मुनादी।
पलकों को मूंद, तू भी
सो जा मेरी लाडली।
नाजों से पली हुई
घर की बगिया की कली!
ना, ना, बुरी बात है
कहना न मानना,
चाव से झुलाए तुझे
आज बुआ पालना।
कमरे में उतर आई
चांदनिया गोरी,
तूने भी पलकें मूंदीं,
सुनते-सुनते लोरी।