भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुनसान वियावान जीवनोॅ के राह पर / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुनसान वियावान जीवनोॅ के राह पर
बड़का सहारा एक दुनिया के रीत छै।
तीत मीठ एहसास टीस केॅ भुलाबै लेली
आपनोॅ बनावै लेली बिरही के गीत छै।
आपनोॅ कमी केॅ लोगोॅ वेदोॅ सें छुपावै लेली
जखम भरावै लेली दुनिया में जीत छै।
एक साथ हार-जीत रीत गीत भोगै लेली।
खुदा के ई रहमत बरसलोॅ प्रीत छै॥