भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुन, इमली के दाने सुन! / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुन, इमली के दाने सुन!
सुन, इमली के दाने सुन!

तुझे गली में पाया था,
झककर तुझे उठाया था,
सोचा, तुझे उठाकर के,
मिट्टी तले दबाकर के,
चुपके से रख छोडँूगा,
कुछ दिन यूँ ही देखूँगा,
फिर जब बारिश आएगी,
मिट्टी नम हो जाएगी,
अंकुर बन तू फूटेगा,
खुली हवा में झूमेगा,
फिर पौधा बन जाएगा,
दिन दूना बढ़ जाएगा,
फिर तुझ पर फल आएँगे,
हम भी इमली खाएँगे।

पर बचकर तू निकल गया,
हाथों से तू फिसल गया,
जब तक मेरी मति जागी,
तुझे गिलहरी ले भागी।