भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुपनां / अशोक जोशी 'क्रान्त'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुपनां
टाबरियां रा रमतिया
साबू रै झागर रा ढब्बू
बायरै में बणै
बायरै में इज फूटै
जदकै उणां में व्है
सातूं रंग
इंदरधनख रा।