भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुबह की धूप / सुधा ओम ढींगरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाँदी रंग में रंगी हुई यह सुबह की धूप;
                  जीवन में उमंग जगाए यह सुबह की धूप!
गर्मी में लागे इसका ऐसा रूप निराला;
                   पसीने से सराबोर करे यह सुबह कि धूप!
साँस ना आये जी घबराए हर पल जाने कैसा;
               फूल पत्तियाँ सब कुम्लाए यह सुबह की धूप!
सब को यह परेशान करे क्या पशु क्या पक्षी;
                  पर फसलों को महकाए यह सुबह की धूप!
गर्मी में सब दूर भागते सर्दी में पास बुलाते;
                     क्या-क्या रूप दिखाए यह सुबह की धूप!
इसके आँचल में जो बैठे माँ सा प्यार पाए;
               ठिठुरन सब की दूर भगाए यह सुबह की धूप!
कभी गर्मी ,कभी सर्दी, पतझड़ औ' मधुमास;
                      क्या-क्या रंग बदले है यह सुबह की धूप!
न कोई इसका दुश्मन जग में न कोई दोस्त;
               सब पर अपना प्यार लुटाए यह सुबह की धूप!