भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुब्ह तक हम रात का ज़ाद-ए-सफ़र हो जाएँगे / फ़ुज़ैल जाफ़री

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुब्ह तक हम रात का ज़ाद-ए-सफ़र हो जाएँगे
तुझ से हम-आग़ोश हो कर मुंतशिर हो जाएँगे

धूप सहरा तन बरहना ख़्वाहिशें यादों के खेत
शाम आते हैं ग़ुबार-ए-रह-गुज़र हो जाएँगे

दश्त-ए-तन्हाई में जीने का सलीक़ा सीखिए
ये शिकस्ता बाम ओ दर भी हम-सफ़र हो जाएँगे

शोरिश-ए-दुनिया को आहिस्ता-रवी का हुक्म हो
नज़्र-ए-ख़ैर-ओ-शर तेरे शोरीदा-सर हो जाएँगे

ये जो हैं दो-चार शुरफ़ा-ए-अवध अख़्तर-शनास
कुछ दिनों में ये भी औराक़-ए-दीगर हो जाएँगे