भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुरमई रातों से छिनवा कर सहर की रौनक़ें / शोरिश काश्मीरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुरमई रातों से छिनवा कर सहर की रौनक़ें
नाला-ए-शाम-ए-ग़रीबाँ बेचता फिरता हूँ मैं

मौज बरबत मौज मौज सबा के साथ साथ
निकहत-ए-गेसू-ए-ख़ूबाँ बेचता फिरता हूँ मैं

दीदनी है अब मिरे चाक-ए-गिरेबाँ का मआल
कज-कुलाह हो के गिरेबाँ बेचता फिरता हूँ मैं

शोला-ए-तारीख़ की ज़द पर है ताज-ए-ख़ुसरवी
ग़र्रा-ए-तक़दीर-ए-सुल्ताँ बेचता फिरता हूँ मैं

कलबा-ए-मेहनत-कशाँ को दे के ग़ैरत का चराग़ ष्
शौकत-ए-क़स्र-ए-ज़र-अफ्शाँ बेचता फिरता हूँ मैं