भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुवांज / चैनसिंह शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं धरती रो गीत सुण्यो
पछै थांरी प्रेम-कविता
विकल्प री चरचा नीं है
चानणै खातर स्यात
दोनूं ई चाहीजै।
 
थे रूंख नैं पंपोळ्यो
पछै होठां मांड्यो चुंबन
बात होवै
अर जे नीं होवै
मौसम री पैलपोत
किणी एक खातर नीं है।
एक सांतरो सो सुवांज है
म्हैं अर थे मिल’र
मिनखणै खातर
इण सूं बत्तो
कीं नीं कर सकां।