भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूखे पत्तों सा यह शहर क्यों है / विनय कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूखे पत्तों-सा यह शहर क्यों है ?
आग से सबको इतना डर क्यों है ?

क्या चिता भी है यज्ञ की वेदी
आग ईश्वर है तो ईश्वर क्यों है ?

दिल में बेघर के क्यों नहीं रहता
यह इमारत ख़ुदा का घर क्यों है ?

जिसके पीछे फ़साद चलता है
वह शरीफ़ों का राहबर क्यों है ?

आईना आपका दुश्मन क्यों है?
आपके हाथ में पत्थर क्यों है ?

आजकल आपकी ग़िज़ा क्या है?
आपकी बात में ज़हर क्यों है ?

आपकी रूह बुझ गयी कैसे
आपका जिस्म मुनव्वर क्यों है ?

आपने क्या दिया मुसिव्वर को
शक्ल तस्वीर में बेहतर क्यों है ?

दाँत पैने हैं, दुम लरज़ती है
हर फ़रिश्ते में जानवर क्यों है ?

दर्दे-इमरोज़ क्यों नहीं कम है
दर्दें-माज़ी के बराबर क्यों है ?

नाम लिखना भी न आता जिसको
लिखने बैठा वो मुक़र क्यों है ?

दर्द महिफ़ल मिज़ाज क्यों इतना
नाचता रात-रात भर क्यों है ?

जिसको होना था सबके दामन पर
दाग़ वह सिर्फ़ चांद पर क्यों है ?

चोर सब मैच देखते होंगे
संतरी आज ग़श्त पर क्यों है ?

बसना है क्या नये अंधेरों को
रोशनी आजकल इधर क्यों है ?

पेट जलता था तो शायर क्यों था?
पेट भरता है तो शायर क्यो है ?

आके सीने से लगो फिर समझो
मेरे सीने में समंदर क्यों है?