भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूते पिया खरिहनवाँ हो, फागुन के महीनवा / भोजपुरी होली गीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सूते पिया खरिहनवाँ हो, फागुन के महीनवा ।।टेक ।।

कुकुर के नीन, भइल तन छीन ,
मोती भइल बाटे दनवाँ हो,फागुन के महीनवा।। टेक ।।

अइसे पिआसल पिया मन हुलासल,
गंगा बनल मोर नयनवा हो, फागुन के महीनवा ।।टेक ।।

बन के कोइलिया , बोले मीठ बोलिया,
हमके बुझाला सपनवा हो, फागुन के महीनवा ।।टेक ।।

कर्मेन्दु शिशिर के संग्रह से