भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूम पतिनी सो कहै सुन सपने की बात / रामजी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूम पतिनी सो कहै सुन सपने की बात ,
अकथ कहानी रात बरसत हारो तो ।
चानी मे खरो तो जिमि गाढ़ि के धरो तो ,
ताहि मन मे बिचारि खोदि हाथ को निकारो तो ।
कहै कवि राम आयो कवि एक ताही समै ,
कवित्त पढ़ो तो हौँ तो दीबो अनुसारो तो ।
होतो कुलदाग बड़े जेठन के भाग अरे ,
जागि न परो तो मैं रुपैया दिये डारो तो ।


रामजी का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।