भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूम / मुंशी रहमान खान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूम लक्ष्‍मी पाय कर नहीं भजैं हरिनाम।
उनका ईश्‍वर द्रव्‍य है नहीं दान से काम।।
नहीं दान से काम पेट भर अन्‍न न खावैं।
करैं दान कहिं भूल कर घर बैठे पछितावैं।।
कहैं रहमान सूम धन खैहैं शैतान मचावैं धूम।
द्यूत सुरा अरु बुरे कर्म में सब धन नाशै सूम।।