भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूरज ढलते और निकलते देखा है / रामश्याम 'हसीन'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरज ढलते और निकलते देखा है
हमने करवट वक़्त बदलते देखा है

इक-दूजे से लोग जला करते हैं, पर
हमने कुछ को ख़ुद से जलते देखा है

जिन आँखों में सिर्फ़ अँधेरे पलते थे
उन आँखों में सपने पलते देखा है

मदहोशी में बदनामी भी मुमकिन है
उनको गिरते और सँभलते देखा है

पहली बार किसी ने दुनिया में हमको
यूँ आँखों को मलते-मलते देखा है