भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूरज मरकरी / हरीश हैरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊपरलै
दिन में
चसाई
सूरज मरकरी
खूब बिल आयो!

रात नै
झिलमिल लाईटां रै साथै
चसायो
चाँद सी.एफ.एल.
आखी जिया जूण रै
ठंड बापरगी!