भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूर्यास्त से पहले / वर्नर अस्पेंसट्रोम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूर्यास्त से ठीक पहले स्पंदित होते हैं पेड़,
हवा से नहीं, बल्कि एक दूसरे के प्रति प्रेम के वशीभूत हो.
रॉबिन पक्षी गाते हैं गीत की मृत्यु को.
कोई नहीं जानता कितने लम्बे समय तक रहती है रात.


(मूल स्वीडिश से अनुवाद : अनुपमा पाठक)