भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सृजन और अनुवाद / विपिनकुमार अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सृजन और अनुवाद के बीच

स्थिति बड़ी अजब सी होती है

कुछ सिर के बाल बढ़े और कुछ

दाढ़ी बढ़ी सी होती है


(रचनाकाल :1955)