भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सृष्टि का अनन्त विस्तार / सतीश छींपा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम पूजा हो
मुझ नास्तिक के लिए
तुम्हारा पर्याय कोई ईश्वर नहीं
पर एक द्वार
उस सृष्टि का
जहाँ सृजित होता प्रेम
रहता अटल जीवन
युग-युगान्तर
एक हृदय से दूसरे में
दूसरे से तीसरे
तीसरे से चौथे
चलता अविराम
सृष्टि का अनन्त विस्तार
अटक जाता
तुम्हारे चेहरे
नाक को चूमती नथ में।