भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सैंत कर ईमान कुछ दिन और रखना है अभी / साबिर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सैंत कर ईमान कुछ दिन और रखना है अभी
आज-कल बाज़ार में मंदी है सस्ता है अभी

दरमियाँ जो फ़ासला रक्खा हुआ सा है अभी
इक यही उस तक पहुँचने का वसीला है अभी

यूँ ही सब मिल बैठे हैं साबेकूनल-अव्वलून
दश्त में जारी हमारा आना जाना है अभी

मुस्कुराना एक फ़न है और मैं नौ-मश्क़ हूँ
फिर भी कया कम है उसे बेचैन देखा है अभी

क़ुमक़ुमों की रौशनी में भी नज़र आता है चाँद
गाँव में मेरा पुराना इक शनासा है अभी

जा-ब-जा बिखरे पड़े हैं सारे आज़ा ख़्वाब के
ज़ेर-ए-मिज़्गाँ किस ने ये शब-ख़ून मारा है अभी

क्यूँ न घड़ लें कुछ मनाक़िब और फ़ज़ाएल हब्स के
जब इसी अंधे कुएँ में हम को जीना है अभी