भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सैनिक / अनिमेष कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सैनिक सीमा रोॅ प्रहरी छेकै
भारत माता रोॅ रक्षक छेकै
हरदम जी-जान सेॅ जुटलोॅ छै
आपनोॅ परिवारोॅ सेॅ बेसी
भारत माय रोॅ चिंता बेसी
सैनिक सबके छेकै हितैशी
देशोॅ में सेना नै होतै तेॅ
जिनगी मेॅ कोहराम होतै
मारे-काटे सब जगहोॅ होतै
दुश्मनोॅ केरोॅ हमला होय छै
सैनिक हमरोॅ खूब्बेॅ लड़ै छै
सैनिक आपनोॅ फर्ज बूझै छै।

भारत माता के वीर जवान
हरदम करै छै, हेकरोॅ मान
हेकरा पर सबकेॅ अभिमान
सैनिक हमरोॅ, रहै छै डटलोॅ
सीमा पर रहै छै चैकन्नोॅ
दुश्मनोॅ केॅ लागै छै डोॅर,
जय हिन्द आरो हिन्दुस्तान
येहे छेकै, हमरोॅ सबके शान
सैनिक हमरोॅ वीर-जवान
नाज हिनका पर सबकेॅ छै
दिन-रात मेॅ अमन-चैन छै
सीमा रोॅ रक्षा, मेॅ पल-पल
सैनिक हमरोॅ रहै छै तत्पर,
सैनिक छेकोॅ देषोॅ रोॅ आन
हिनके मेॅ बसलोॅ छै जान
भारत माय रोॅ हिनिये छै प्राण,
जय-हिन्द आरो हिन्दुस्तान
हिनियेॅ छेकै, आन-वान आरो शान।