भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोई नन्हीं आँखें / अक्षय उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वे आँखें
जिनके बारे में
हर कवि ने गीत गाया है
अभी जतन से सोई हैं

ना ना
छूना नहीं

उनमें बन रहे कच्चे स्वप्न हैं
उम्मीदें आकार ले रही हैं
उनमें कल बड़ा होकर
आज होने वाला है
हो सके तो
जतन से सोई इन आँखों को
अपने गीत दो
अपनी ख़ुशी दो
घटनाओं से भरा इतिहास दो

वे आँखें जागेंगी
और जगने से पहले
सुबह का
एक पूरा सूरज दो