भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोए ज़मीर को जगाइए साहब / इसाक अश्क

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोए ज़मीर को जगाइए साहब
ऊपर से नीचे को आइए साहब

अपना देश ख़ून देकर भी अगर
बच सकता है तो बचाइए साहब

राजनीति तो तवायफ़ है कोठे की
इसे पूजा-घर तक न लाइए साहब

दुश्मनों से तो निपट लेंगे हम
दोस्तों को पास से हटाइए साहब

आईना देखकर आप भी कभी
अपनी करतूतों पर शरमाइए साहब