भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोचो कैसे / अश्वनी शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैसे पता चलता है
टिडिड्यों को
अब की बार हरा-भरा है रेगिस्तान

बारिश बरसेगी और
धूसर से हरा होगा रेगिस्तान
तो टिडिड्यां भी आयेंगी ही
सुदूर अफगानिस्तान से
आती है शायद
कहीं से भी आती हो
लेकिन
हर दिन चाट जाती है
एक गांव की हरियाली

हरियाली ही नहीं
खुशहाली तथा
कितने ही हसीन सपने
चाट जाती है
मां-बाप की दवाई
बनिये का उधार
बच्चों की फीस
बीवी की दवाई
ये अजनबी आफत
जब आती है
तो रोके नहीं रूकती
रोज बढ़ती जाती है

दस साल में एक बार होने वाली
इस सपनों की फसल
पर तुषारापात करने
आ ही जाती हैं ये
अवांछित मेहमान

इस धरती को चाटने
इस धरती पर
पैदा होने और मरने

या तो अकाल
या फिर टिडिड्यां
फिर भी बचा रहता है आदमी
सोचो कैसे ?