भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोच सोच आँखों में पानी / धीरज श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोच सोच आँखो मे पानी
भर भर आता है ।
कहने को तो कह देते सब
कौन निभाता है ।

उम्मीदों मत शोर मचाओ
मुश्किल से वो सोया है !
दर्द हमारा आज अकेले
बैठ देर तक रोया है !
सन्नाटों की सुन आवाजें
दिल घबराता है ।

अँधियारों से मिलकर मैंने
घर को खूब सजाया है !
उजियारों ने साज़िश रचकर
अंतस को बहलाया है !
जाने क्योंकर कोई इतना
मन को भाता है ।

रोज चाँदनी मुझसे मिलने
छत पर आया करती थी !
सतरंगी सपने चुन चुन कर
निंदिया लाया करती थी !
नही ख़यालों से मेरे वो
मौसम जाता है ।

टूटी माला के मनकों सा
अब तो बिखर गया हूँ मैं !
मुख को आँसू से धोकर अब
कितना निखर गया हूँ मैं !
गया भरोसा साथ किसी के
कहाँ विधाता है ।