भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोने की सी बेली अति सुँदर नबेली बाल / मतिराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोने की सी बेली अति सुँदर नबेली बाल ,
ठाढ़ी ही अकेली अलबेली द्वार महियाँ ।
मतिराम आँखिन सुधा की बरखा सी भई ,
गई जब दीठि वाके मुखचँद पहियाँ ।
नेकु नीरे जाय करि बातनि लगाय करि ,
कछु मन पाय हरि बाकी गही बहियाँ ।
चैनन चरचि लई सैनन थकित भई ,
नैनन मे चाह करै बैनन मेँ नहियाँ ।


मतिराम का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल महरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।