भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोने में देखिया के पीता हूँ शराब / क़ुली 'क़ुतुब' शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोने में देखिया के पीता हूँ शराब
आशिक़ाँ का दिल हुआ उस थे कबाब

मेरे बुत कों पूजते सारे बुताँ
सभी रम्मालाँ कहो उस का जवाब

शुक्र ओ शुक्र ओ शुक्र लाखाँ शुक्र है
मेरी मजलिस कों मुल्क ना देखें ख़वाब

आसमाँ कहने कुनह मुश्किल बहुत
गर कहेंगे तो कहेंगे बु-तुराब

आशिकाँ के शेर थे जगमग उठे
मेरी आह का आग है ज्यूँ आफ़ता

कुतुब शह, बंदा गुनह-गार अब अहे
सब करो याराँ दुआ होगा सवाब