भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोरा / धनेश कोठारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोरा भारा कैका ह्वेन
जैंन माणिं सि बुसेन


कांद लगै उकाळ्चढै़
तब्बि छाळों पर घौ लगैन

 
दिन तौंकु रात अफ्वु कु
इतगि मा बि मनस्वाग ह्वेन


अपड़ा डामि सी मलास्या
अधिता मन तब्बि नि भरेन


स्याणि मारिन भारा सारिन
निसकौं कु तब्बि भारी ह्वेन
 

सम्मु हिटिन बालिस्त नापिक
अजाड़ बल नाचि नि जाणि


स्याणि टर्कि रस्याण सौंरि
बाजिदौं उपरि गणेन