भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सो जा कान्हा श्याम सलोना / शकुंतला कालरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सो जा कान्हा, श्याम सलोना।
कोमल-कोमल लोना-लोना,
नटखट, चंचल ज्यों मृगछौना।
सो जा कान्हा, श्याम सलोना।
चंदन पलना नरम बिछौना,
चमके जैसे चांदी-सोना।
सो जा कान्हा, श्याम सलोना।
सुंदर मुख पर लगा डिठौना,
नजर लगे ना जादू-टोना।
सो जा कान्हा, श्याम सलोना।