भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सो जा ललना, सो जा ललना / लक्ष्मीदेवी चंद्रिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सो जा ललना, सो जा ललना।
मां की गोदी तेरा घर है
तेरा घर है, तेरा घर है,
फिर क्यों मेरे मन में डर है
सोने-चांदी का है पलना।
सो जा ललना, सो जा ललना।
मीठी-मीठी नींद बुला दूं
थपकी दे दे तुझे सुला दूं,
कभी न रोना और मचलना
सो जा ललना, सो जा ललना।
चंदा आया, चंदा आया
साथ बहुत-से तारे लाया,
मीठा दूध कटोरा लाया
अच्छे पथ पर ही तुम चलना।
सो जा ललना, सो जा ललना।