भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सो भी जा / विजय वाते

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात के ढाई बजे हैं सो भी जा
लोग सारे सो गये हैं सो भी जा

है सुबह जल्दी जरूरी जागना
काम कितने ही पड़े हैं सो भी जा

लाभ हानि जय पराजय शुभ अशुभ
रोज के ये सिलसिले हैं सो भी जा

बेईमानी के विषय में सोच मत
होंठ सबके ही सिले हैं सो भी जा

कौन्क्या बोला तुझे ये भूल जा
लोग लुछ तो दिलजले हैं सो भी जा