भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सो रहा संसार सारा / छाया त्रिपाठी ओझा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जागकर तारे गिनूँ मैं
सो रहा संसार सारा।

नेह अपना लुट चुका पर
याद अपने हाथ है !
नींद पीहर को गयी है
चाँदनी पर साथ है !
आह भरती है निशा ये
ढूँढता है मन किनारा !
जागकर तारे गिनूं मैं
सो रहा संसार सारा।

नाम प्रिय के इस नयन में
टिमटिमाता दीप है !
खो गया अनमोल मोती
कश्मकश में सीप है !
मुस्कुराकर व्योम पूछे
कौन था इतना वो प्यारा।
जागकर तारे गिनूँ मैं
सो रहा संसार सारा।

महमहाती रातरानी
आज ताने कस रही !
एक तन्हाई हमेशा
कल्पना को डस रही !
वक्त की अठखेलियों में
कौन देता है सहारा !
जागकर तारे गिनूँ मैं
सो रहा संसार सारा।