भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सौ कीं बदळग्यो / हनुमान प्रसाद बिरकाळी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गांव नै भी अब
सैर री हवा लागगी
सौ कीं बदळग्यो
नीं सीर है
नीं नीर है
नीं बीर है
नीं चीर है
नीं सग्गा है
नीं सरीक हे
नीं रीत है
नीं प्रीत है
नीं सावो है
नीं सगपण है
नीं चंवरी है
नीं चंग है
सगळा तंग है
नीं हथाई है
नीं हुंकारो है
नीं गोबर है
नीं गारो है
गांव में बस
फगत सैर जेड़ो ई
थारो म्हारो है।