भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सौ वजूहात याद आने के / विजय वाते

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छोडिये ज़िक्र उस ज़माने के,
वो फ़साने हैं दिल दुखाने के ।

एक कोशिश है भूल जाने की,
सौ वज़ूहात याद आने के ।

ऐसे जाना भी क्या यार जाना,
तोड़कर पुल गरीबख़ाने के ।

रामजी मुझको और दुःख दे दो
काम आएँगे गम भुलाने के ।