भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

स्तब्ध बोध / ईहातीत क्षण / मृदुल कीर्ति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देह के सीमांतों मैं रह कर असीम की खोज

काल के अभिग्रह में बंद होकर कालातीत की खोज

प्रमत्त, उन्मत्त क्षणों की तन्मय प्रक्रिया में

हम यह भूल जाते हैं,

कि

गहरे से गहरे प्रणय और प्यार के संवेदन भी

एक दिन निदान चुक जाते हैं.


इनकी भी एक सीमा है,

क्योंकि

इनके स्थूल परमाणु

गुरुत्वाकर्षण की सीमा पर ही रुक जाते हैं.

अन्तर केवल इतना है कि

गुरुत्वाकर्षण की सीमा के इस पार

हम परिणाम की इच्छा करते हैं,

और सीमा के उस पार

हम इच्छा का परिणाम जानते हैं.

सच तो यह है कि

ईश्वर की तरह निर्मोही

होकर ही कोई अमोघ प्यार दे सकता है.

स्तब्ध बोध से विश्रब्ध हूँ,

स्तब्ध हूँ,

कि निर्मोही भी कितना मोही हो सकता है.

स्तब्ध बोध

देह के सीमांतों मैं रह कर असीम की खोज

काल के अभिग्रह में बंद होकर कालातीत की खोज

प्रमत्त, उन्मत्त क्षणों की तन्मय प्रक्रिया में

हम यह भूल जाते हैं,

कि

गहरे से गहरे प्रणय और प्यार के संवेदन भी

एक दिन निदान चुक जाते हैं.

इनकी भी एक सीमा है,

क्योंकि

इनके स्थूल परमाणु

गुरुत्वाकर्षण की सीमा पर ही रुक जाते हैं.

अन्तर केवल इतना है कि

गुरुत्वाकर्षण की सीमा के इस पार

हम परिणाम की इच्छा करते हैं,

और सीमा के उस पार

हम इच्छा का परिणाम जानते हैं.

सच तो यह है कि

ईश्वर की तरह निर्मोही

होकर ही कोई अमोघ प्यार दे सकता है.

स्तब्ध बोध से विश्रब्ध हूँ,

स्तब्ध हूँ,

कि निर्मोही भी कितना मोही हो सकता है.