भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्नेह के प्रति / कीर्ति चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़रा ढील दो, अपने को यों मत कसो
खुलकर रो लो और खुलकर हँसो
थोड़ी हल्की बनो, इसका भी कुछ अर्थ है
उलझन-अवसादों की गरिमा तो व्यर्थ है
दुनिया हर रोज़ ही कुछ न कुछ बढ़ती है
बात कुंठा से नहीं, गति से सुलझती है ।