भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्पर्श / राखी सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छुआ ऐसे तुमने
जैसे भौरे ने
छुआ हो गुलाब को
जैसे छुए नाव का तल
नदी के हिलकोरे भरते वक्ष को
किसी सुंदरी के गर्म तलवों तले
रौंदी जाए कार्तिक की ओदा दूर्वा

तुमने चाहा
न हो नुकसान किसी का
न छूटे चिह्न कोई

ये केवल मुझे पता है
स्पर्श छोड़ा है तुमने ऐसे
जैसे सांसो ने खींच रखी हो श्वास
और मना किया हो छोड़ने से।