भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्वप्न / अमृता भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह मेरा
हर स्वप्न चुरा लेता था
कि मैं
गहरी नींद में सो सकूँ ।

जागने पर
उसने
एक-एक कर
लौटाए थे
मेरे स्वप्न
'शिलातल' की मुग्धता में ।