भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्वयं हो / सपना मांगलिक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माना जीवन डगर अँधेरी
ना घबराना अंधेरों से मेरे बच्चे
टिमटिमाते जुगनू तुम स्वयं हो
माना मंजिल दूर बहुत है
ना घबराना तन्हाई से मेरे बच्चे
तुम ही राही कारवां तुम स्वयं हो
माना दुःख की छाएंगी घटायें
जीवन में क्षण –प्रतिक्षण
ना घबराना दुखों से मेरे बच्चे
सुख का ओजस्वी सूर्य तुम स्वयं हो
रखो याद बाद वसंत के पतझड़
आता अवश्य ही जीवन में
ना घबराना पतझड़ से मेरे बच्चे
खिलता-महकता उपवन तुम स्वयं हो
जीत –हार पहलू दो जीवन सिक्के के
ना घबराना हार से मेरे बच्चे
जीत के आगामी कीर्ति स्तंभ
भी तुम स्वयं हो
ना दोष मढना गलती का अपनी
सुनो कभी दूजों के सर
शर्मिन्दा भी होना ना मेरे बच्चे
गलतियों के जिम्मेदार भी तुम स्वयं हो
और उनसे सीखा अनमोल सबक
मेरे बच्चे तुम स्वयं हो