भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्वर भर दो आज विश्व की वीणा / केदारनाथ मिश्र ‘प्रभात’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आशाओं के अंधकार में
प्रबल-पवन न चलाया कर;
और कामनाओं के चंचल
दीपक को न जलाया कर।
विस्मृति की उन्मत्त-घड़ी में
मधुर! न तू मुस्काया कर
मदिर-मूर्च्छना के प्रवाह में
जीवन को न बहाया कर।

इतना मत उन्माद आह!
सूने-जीवन में भर प्यारे!
मेरे इस अल्हड़-यौवन को
इतना विसुध न कर प्यारे!

भर दो, आज व्योम का अंचल
मेरे उर की आगों से!
भर दो, आज विश्व की वीणा
मेरे करुणा-विहागों से!

देव! पूर्णता के प्याले में
भरो रिक्तता यह मेरी!
प्यारे! पथ अनंत का रंग दो
मेरे दिल के दागों से!

जीवन का संगीत आज
चिर-सूनेपन से भर दो!
शून्य-साधना की समाधि पर
चिह्न बना दो, कर दो!