भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्वांग बना छलिये फिरें बैठे जटा बढ़ाय / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

स्वांग बना छलिये फिरें बैठे जटा बढ़ाय,
भेष बना साधु तणा मांस मछलिया खाय।
मांस मछलियां खाय शराबी बन कर डोलें,
बाजेगें वही सिद्ध गजब की बोली बोलें।
विप्र छांडी बैठे करम बन कर चोर लबार,
शिवदीन भजन बिन क्या बने डूबेगें मझधार।
राम गुण गायरे।