भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्वागत गीत / कुलवंत सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(भूतपूर्व राष्ट्रपति महामहिम डा. एपीजे अब्दुल कलाम के स्वागत में रचा गया गीत)
स्वागतम सुस्वागतम
महामहिम सुस्वागतम।

रामेश्वर की पवित्र भूमि पर
जन्म लिया इक महामना ने,
‘थिरुकराल’ के महान ज्ञाता
नई दिशा दी कवि मना ने।
स्वागतम सुस्वागतम
अभ्यागत सुस्वागतम, स्वागतम सुस्वागतम।

विज्ञान को उन्न्त बनाया
भारत को गौरव दिलवाया,
‘नाग’, ‘अग्नि’, ‘पृथ्वी’, ‘आकाश’
शक्ति संपन्न देश बनाया।
स्वागतम सुस्वागतम
प्रतिभा धनी सुस्वागतम, स्वागतम सुस्वागतम।

दूर गगन में हम उड़े
पंख खोल हम संग तेरे,
नित नई ऊचाईयां
भारत ने पाईं संग तेरे।
स्वागतम सुस्वागतम
भारत रत्न सुस्वागतम, स्वागतम सुस्वागतम।

भारत को सुपर बनाने का
स्वप्न सजाया जो आपने,
करेंगे पूरा हम उसको
नव रुधिर जगाया आपने।
स्वागतम सुस्वागतम
महामहिम सुस्वागतम, स्वागतम सुस्वागतम।