भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्वै गई निशँक आज ये री परयँक पर / नंदराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

स्वै गई निशँक आज ये री परयँक पर ,
बँग भौँह वारो मोहिँ अँक मो लगा गयो ।
मुरली मुकुट कटि तट पीतपट तैसे ,
अटपटी चाल चित मेरो उरझा गयो ।
कहै नन्दराम मुरि मन्द मुसकाय ,
नेक समझि न पायो कछु कान मेँ सुना गयो ।
आ गयो अचानक देखा गयो मयँक मुख ,
हाँ गयो कितै कि मोहिँ सोवत जगा गयो ।

नंदराम का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।