भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सॼण जी सिक / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विया जादू हणी जीअ में जोॻी, तिन जोॻियुनि खे मां संभारियां थी
करे याद उन्हनि जे रिहाणियुनि खे, मां नित नित ॻोढ़ा ॻारियां थी

1.
जिनि महर मया जो हथिड़ो धरे
पासे में विहारियो पंहिजो करे
अॼु पाण उन्हनि खे अकेलो ॾिसी
दिल ॻणितियुनि में पेई रोज़ ॻरे।
सीने में उन्हनि जी सूरत आ
ॾिसी जीउ जॾो मां जीआरियां थी।

2.
हुआ वचन झूलण जा अनमोला
जिनि दूर कया सभु ॾुख ॾोला
विया अहिड़ी सिख्या ॾेई संत सचा
जिनि रूह मंझा कढिया रोला विया
विया जोति लॻाए मनड़े में
मां तिनि जी राह निहारियां थी

3.
बस याद लालण जी बाक़ी आ
ॾींहां रातियां मूं लाइ साथी आ
शल रहिजी अचे मुंहिंजी झूलण सां
जा प्रीति सची मूं आ पाती
लख लख लाइक़ आहिनि तिनि जा
जे याद करे दिल ठारियां थी
विया जादू हणी जीअ में जोॻी, तिन जोॻियुनि खे मां संभारियां थी।