भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हँसती बहुत है / स्वरांगी साने

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उससे पूछा जाता है
‘कैसी हो’
वह ठीक-ठीक जवाब नहीं दे पाती।
सोच में पड़ जाती है
लगता है सच कह दे
फिर सोचती है
इस प्रश्न का कोई मानक उत्तर ही दे दे।

वह सच बताना चाहती है
कि तभी
दूसरा सवाल दाग़ दिया जाता है
फिर तीसरा, चौथा
उसके पास
किसी सवाल का कोई तयशुदा जवाब नहीं होता
वह हँस देती है।
पूछते हैं उससे -इसमें हँसने की क्या बात!
हाँ, हँसने वाली
कोई बात नहीं होती
दरअसल वह रोना चाहती है।

हालाँकि
जब-जब
वह रोना चाहती है
हँस देती है
और सब कहते हैं
वह हँसती बहुत है।