भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हँसती है घास /राम शरण शर्मा 'मुंशी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक धार मार कर
चली गई
बयार ।

         सिहर रहा
         मन अब तक,
         घाव
         आर-पार ।

हँसती है
घास
आस-पास —

         हँसते हैं
         रक्त-रंगे
         ढीठ चिनार !