भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हज़ार ख़्वाब हमारी शबों में आते हैं / विनय कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हज़ार ख़्वाब हमारी शबों में आते हैं।

बुरा हो नींद का टूटी कि टूट जाते हैं।

हम ठहाकों की जगह सिर्फ मुस्कुराते हैं।
षोर के शहर में आवाज़ यूँ उठाते हैं।

वो आसमान है उसको ग़ुरूर सूरज का
हम अपने ख़याल के बादल से छत बनाते हैं।

कहाँ-कहाँ की लिए रेत उफनता दरिया
जिन्हें पता है वही लोग पुल बनाते हैं।

बिके नहीं है, बिकेंगे भी नहीं, कुछ करिए
अजीब आइने हैं दाग़ भी दिखाते हैं।

जितनी होती थी वजह बाल गंवानें की कभी
उससे कुछ कम पे यहाँ लोग सर गंवाते हैं।

हमारे ख़याल रोशनी में नहा लेते हैं
किसी की राह में जब भी दिया जलाते हैं।