भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हटिया जैबै / अंजनी कुमार सुमन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैबै साँझे हटिया पर
चच्चा के फटफटिया पर
बिस्कुट निमचुस खूब किनैबै
नै मानब खटखटिया पर।
जैबै साँझे हटिया पर।
चच्चा के फटफटिया पर

रंग-बिरंगा फुकना लेबै
ऊन के बनलाँ सुगना लेबै
फटफटिये पर बैठल रहबै
गोर नै धरबै मटिया पर।
जैबे साँझे हटिया पर
चच्चा के फटफटिया पर।

करका-करका चश्मा लेबै
हमहुँ आपनोॅ शान देखैबै
कल्हे सें मईया रखने छै
नवका अंगा खटिया पर।
जैबै साँझे हटिया पर
चच्चा के फटफटिया पर।