भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हथिनी दीदी / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हथिनी दीदी बैठ ट्रेन में,
निकल‌ पड़ीं भोपाल को|
धुम चुक धुम चुक बजा रहीं थीं,
अपने सुंदर गाल को|

तभी अचानक टी टी आया,
बोला टिकिट कहाँ ताई,
हथनी बोली टिकिट मांगकर,
तुमको शरम नहीं आई|

टिकिट‌ काउंटर इतना छोटा,
सूंड़ नहीं घुस पाई थी|
इस कारण से टी टी भैया,
टिकिट नहीं ले पाई थी|

पहिले आप टिकिट की खिड़की,
खूब बड़ी करवाओ|
उसके बाद‌ श्री टी टीजी,
टिकिट मांगने आओ|