भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हथौड़े का गीत / केदारनाथ अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मार हथौड़ा,
कर-कर चोट!
लाल हुए काले लोहे को
जैसा चाहे वैसा मोड़!
मार हथौड़ा,
कर-कर चोट!
थोड़े नहीं-- अनेकों गढ़ ले
फ़ौलादी नरसिंह करोड़।

मार हथौड़ा,
कर-कर चोट!
लोहू और पसीने से ही
बंधन की दीवारें तोड़।
मार हथौड़ा,
कर-कर चोट!
दुनिया की जाती ताकत हो,
जल्दी छवि से नाता जोड़!