भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हमखो न अखिया दिखाओ मोरे सैया / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हमखों न अंखिया दिखाओ मोरे सैयां।
दइजे में तुमने रुपये गिना लये,
रुपया गिना के कायको बिकाय गये।
अब खरी-खोटी न सुनाओ मोरे सैयां। हमखों...
दइजे के धन पे बने पैसा वारे,
छैल छबीले बने बाबू प्यारे
रौब कछु न जमाओ अब सैयां। हमखों...
चूल्हा न करहों चौका न करहों
बासन न करहों पानी न भरहों
कौनऊ नौकरानी लगाओ मोरे सैयां। हमखों...
सुनतई मुरझा गई शैखी तुम्हारी
बरछी सी लगे जे बतियां हमारी
रोटी बना के खबाओ न सैयां। हमखों...