भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमनी के रहब जानी दूनू हो परानी / भोजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: महेन्द्र मिसिर

हमनी के रहब जानी दूनू हो परानी
अंगना में कींच-काँच दुअरा पर पानी
खाला ऊँचा गोर पड़ी चढ़ल बा जवानी
देश-विदेश जाल‍ऽ टूटही पलानी
केकरा पर छोड़के जालऽ टूटही पलानी
कहत महेंदर मिसिर सुनऽ दिलजानी
केकरा से आग मांगब, केकरा से पानी!